Sunday, October 2, 2022
Homeट्रेंडिंगचाणक्य नीति : क्रोधित होने पर गलती से भी इन चार लोगों...

चाणक्य नीति : क्रोधित होने पर गलती से भी इन चार लोगों से न लड़ें, नहीं तो…

आचार्य चाणक्य अपनी नैतिकता के लिए विशेष रूप से जाने जाते हैं। बड़े-बड़े राजनेता उनका अनुसरण करते हैं। चाणक्य नीति में कई महत्वपूर्ण बातों का उल्लेख है। चाणक्य नीति के अनुसार जब कोई व्यक्ति क्रोधित होता है तो उसे कभी भी कुछ लोगों से झगड़ा नहीं करना चाहिए।

तो आइए जानते हैं कि गुस्से में किन लोगों से कभी नहीं लड़ना चाहिए। (चाणक्य नीति ने कहा- क्रोध में आकर इन चारों लोगों से कभी भी बहस या झगड़ा न करें)

दोस्तों से मत लड़ो

चाणक्य नीति कहती है कि क्रोध में कभी भी मित्रों से झगड़ा नहीं करना चाहिए। मित्र आपका समर्थन करते हैं। वे आपके रहस्यों को जानते हैं। इसलिए यदि आप अपने दोस्तों के साथ झगड़ा करते हैं, तो आप एक अच्छी दोस्ती खो देंगे लेकिन भविष्य में भी आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

बेवकूफ आदमी

चाणक्य के अनुसार मूर्ख से लड़ना भैंस के सामने शहनाई बजाने जैसा है। ऐसे लोगों से वाद-विवाद करने से आपका मूड तो खराब होगा ही, साथ ही आपका कीमती समय भी बर्बाद होगा।

रिश्तेदारों

चाणक्य नीति का कहना है कि गुस्से में रिश्तेदारों से झगड़ा करना गलत है। रिश्तेदार मुश्किल से काम पर आते हैं। इसलिए यदि आप उनसे झगड़ा करते हैं, तो आप अच्छे रिश्तेदारों को खो देंगे।

गुरु से मत लड़ो

गुरु किसी भी व्यक्ति को आगे लाने का काम करता है। गुरु देवता हैं। इसलिए गलती से भी गुरु का अपमान न करें। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आप ज्ञान से वंचित रह जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Comments